'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- दूज, जिसका अर्थ है- चंद्र मास के प्रत्येक पक्ष की दूसरी तिथि, द्वितीया। प्रस्तुत है गिरिजाकुमार माथुर की कविता- चूड़ी का टुकड़ा
                                                                                                
                                                     
                            

आज अचानक सूनी-सी संध्या में 
जब मैं यों ही मैले कपड़े देख रहा था 
किसी काम में जी बहलाने 
एक सिल्क के कुर्ते की सिलवट में लिपटा 
गिरा रेशमी चूड़ी का छोटा-सा टुकड़ा 
उन गोरी कलाइयों में जो तुम पहने थीं 
रंग भरी उस मिलन रात में। 
 

आगे पढ़ें

1 hour ago

,

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.